तिरछी आखों से | #RhythmicWednesday

तिरछी आखों से तुम्हे देखती हूँ , जब तुम खिलखिला के हंसते हो। तुम्हारी हंसी के रंग, एक तस्वीर की तरह, दिल के पन्नो को कुछ यूं रंगते है। तिरछी आखों से तुम्हे देखती हूँ , जब तुम बोलते हो मुझे ड्रामा क्वीन , हँसी आती है तुम्हारे अल्हड़पन पे , मुझे मेरे ड्रामा किंग, … Read More

We Ignore To See | #RhythmicWednesday

The air has become, Dangerous to breathe. Still, beyond the dirty politics We ignore to see. The smog covers the city, Skyline like a sheet. Stars have disappeared, The view, once used to be sweet. Kids play indoors, Outdoor is valley of fatality. ‘What have we done?’, They ask ‘To deserve this brutality’. Adults don’t … Read More