The Nimble Mime Opinions. Expressions. Words.

अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजो..


कब तक वो नज़रें  मुझे  नज़रों से लूटेंगी ,
कब तक मेरी आज़ादी का दम घोटेंगी । 
क्यूँ है मेरी आज़ादी पे प्रश्नचिन्ह ,
क्यूँ सदियां बदली पर बदली ना मेरे प्रति सोच । 

औरत हूँ, मर्द से कमतर समझी जाती हूँ ,
अपने अस्तित्व अपने मान के लिए हर पल जल जल जाती हूँ । 
लोगों  की  ये  सोच  हर  पल  मुझे  सताती  है ,
ऐसा  भेदभाव  देख कर  आँखें  मेरी  भर  आती  है । 

दुर्गा काली  के देश में ,
क्यूँ मै सिसक सिसक मर जाती हूँ । 
लड़ती हूँ अपने अधिकार को हर पल ,
फिर  भी इंसान से पहले औरत ही समझी जाती हूँ । 

बचपन की यादें और यादों की डोली ,
दिल की हर धड़कन बस ये कह के रो ली । 
अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजो । 
अगले जनम मोहे बिटिया ना कीजो । 

———————————————————————-

Translated version for all my english readers 

Till when those eyes will try to rape me,
Till when my freedom will be caged and suffocated.
Why there is a question mark on my freedom,
Centuries changed but thinking towards women never change.

I am a lady and understood a weaker sex,
I die every moment for my identity and respect.
How people think –  troubles me a lot,
I cry to death by seeing this inequality.

In the country of goddess Durga and Kaali,
Why i die every day crying,
I fight for my rights every second,
Still i am considered as a woman and not a human.

Memories of childhood and a caravan of those memories,
My heart beats just cry and pray,
Don’t make me a girl next life,
Don’t make me a girl next life.

About the author

mm
Manisha Awasthi

6 comments

CommentLuv badge

mm By Manisha Awasthi
The Nimble Mime Opinions. Expressions. Words.