क्यूँ झट बड़े हो गए!

mm By in
2 comments

कल ही तो थे छोटे से ,
क्यूँ झट बड़े हो गए ।
बचपन की दहलीज लांघ कर ,
कब बचपने से दूर हो गए ।

ना रही वो बेफिकरी दुनिया ,
जो जीती थी संग गुड्डे गुड़िया।
एक टॉफी खुश कर देती थी ,
उस नन्हे से दिल को संतुष्ट करती थी ।

जब मम्मी सुनाती थी बाल कहानियां ,
और पापा के संग करते थे शैतानियां ।
जब ज़िंदगी थी सरल और सीधी ,
बुढ़िया के बाल भरते थे मिठास भीनी भीनी ।

भाई बहनो के साथ खेलते थे आँख मिचोली ,
कभी गुस्से में आ के शैतानियों की भी है पोल खोली ।
जब बरसात ले के आती थी रेनी डे ,
और रविवार का इंतज़ार होता था दिल से ।

वो दिन ही कुछ ख़ास थे ,
एक याद ही करा जाती है अलग एहसास ।
और हम पूछ बैठते है ,
कल ही तो थे छोटे से ,
क्यूँ झट बड़े हो गए ।

2 comments on “क्यूँ झट बड़े हो गए!”

    • Justin
    • April 3, 2017
    Reply

    These are really fantastic ideas in about blogging. You have touched
    some good points here. Any way keep up wrinting.
    Justin recently posted…JustinMy Profile

  1. Reply

    Extremely enlightening….looking forwards to coming back. http://whitebunkbeds.company/
    white metal bunk bed recently posted…white metal bunk bedMy Profile

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CommentLuv badge