निर्भया

mm By in
4 comments

मेरे भी कुछ सपने थे, 

जो मेरी इन अखियों ने बुने थे, 
मेरे माँ – बाबू की साँस थी मै ,
उनके ताउम्र परिश्रम का ताप थी मैं .

ज़िन्दगी जीने की हकदार थी मैं, 

कुछ बनने  की तमन्ना में ,
हर मुश्किल से जूझ कर ,
हर अश्क़ पीने को तैयार थी मैं .

ना मालूम किस जुर्म की सज़ा मिली मुझे ,
कि न्याय पाने को तरस गए मेरे प्राण ,
ना रही मेरी अस्मत मेरी ,
ना ही रहा ये जीवन मेरे पास .

जा रही हूँ इस दुनिया से ,
दिल में ये उम्मीद लिए ,
कि मिले हर औरत को जीने की आज़ादी और न्याय ,
और ….  कभी भी ना जन्म ले – एक और निर्भया .
और ….  कभी भी ना जन्म ले – एक और निर्भया .

4 comments on “निर्भया”

  1. Reply

    on a dark eve of vice,
    when we all lost our sight,
    one torched herself,
    and said "let there be light"….

  2. Reply

    Hi Manisha,

    I have nominated you for 'Liebster award'. Its a gesture award for new bloggers. Details are present at my blog. 🙂

    Nakul (flamesofthoughts.wordpress.com)

  3. Reply

    very nicely expressed !! very touchy !! na asmat na jeevan raha !! gr8 lines

  4. Reply

    Thank you very much mysay.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CommentLuv badge